आउटपुट डिवाइस क्या है | what is output device in hindi

क्या आपको पता है आउटपुट डिवाइस क्या है (what is output device in hindi) और यह कितने प्रकार के होते है| अगर आपको नही पता तो घबराने की कोई जरूरत नही आज हमलोग इस पोस्ट में आउटपुट डिवाइस से जुड़े सारे सवालों के बारें में विस्तृत चर्चा करेंगे|

आउटपुट डिवाइस ऐसे डिवाइस को कहते हैं जो किसी कंप्यूटर या अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के द्वारा इनपुट किए गए हैं डाटा को प्रोसेस करने के बाद परिणाम दिखाने में मदद करता है| सरल भाषा में हम इसे कुछ इस प्रकार कह सकते हैं-

आउटपुट डिवाइस क्या है (What is Output Device in Hindi)

वैसे उपकरण जो किसी कंप्यूटर या इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से प्राप्त परिणाम को प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है उसे आउटपुट डिवाइस या आउटपुट युक्तियां कहते हैं|  इससे  भौतिक रूप से छुआ जा सकता है इसमें मॉनिटर(Monitor) प्रिंटर (Printer) स्पीकर (Speaker) कार्ड रीडर (Card Reader) प्रोजेक्टर Projector) इत्यादि उपकरण  सम्मिलित है|

आउटपुट डिवाइस के अभिलक्षण (Signs of Output Device)

 कंप्यूटर की आउटपुट डिवाइसेज प्रायः परिणामों को 2 अवस्थाओं में प्रस्तुत करती है

  • Hard Copy (हार्डकॉपी)
  • Soft Copy (सॉफ्टकॉपी)

1. Hard Copy (हार्डकॉपी)

जब किसी कंप्यूटर का परिणाम  किसी पेपर या मेटेरियल पर प्रिंट क्या हुआ प्राप्त होता है तो हार्ड कॉपी कहलाता है| यह स्थाई परिणाम होता है|

2. Soft Copy (सॉफ्टकॉपी)

जब किसी कंप्यूटर का परिणाम  किसी पेपर या मटेरियल पर प्रिंट ना होकर  मॉनिटर या इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले पर प्रदर्शित होता है तो ऐसे परिणाम को हम लोग सॉफ्ट कॉपी के नाम से जानते हैं यह एक प्रकार का अस्थाई परिणाम होता है|

आउटपुट डिवाइस के प्रकार (Type of Output Device)

वैसे तो अभी बहुत सारी आउटपुट डिवाइस उपलब्ध है, जिसमे से कुछ के नाम और उसका विस्तृत विवरण निम्नलिखित है-

  • मॉनिटर(Monitor)
  • प्रिंटर (Printer)
  • स्पीकर (Speaker)
  • कार्ड रीडर (Card Reader)
  • प्रोजेक्टर Projector) 

Monitor

मॉनिटर को VDU यानि Visual Display Unit के नाम से भी जानते है| इसे कंप्यूटर का Primary Device भी बोला जाता है|

मॉनिटर कंप्यूटर के परिणाम को सॉफ्ट कॉपी में प्रस्तुत करने वाला लोकप्रिय डिवाइस भी है| इसका इस्तेमाल बहुत समय पहले से ही होता आ रहा है|यां user और कंप्यूटर के बीच एक interface बनाने में मदद करता है|

मोनिटर मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है-

  • मोनोक्रोम मॉनिटर (Monochrome Monitor)
  • कलर मॉनिटर (Color Monitor)

मोनोक्रोम मॉनिटर Black and White डिस्प्ले वाला होता है वहीँ कलर मॉनिटर का डिस्प्ले कलर वाला होता है|

संरचना के आधार पर भी मॉनिटर दो प्रकार के होते है-

  • Cathode Ray Tube Monitor (CRT)
  • Liquid Crystal Display (LCD)

Cathode Ray Tube Monitor (CRT)

इसमें एक बड़ा Tube होता है जिसमे high voltage द्वारा इलेक्ट्रान बीम की मदद से डिस्प्ले प्राप्त होता है|इसका सबसे अच्छा उदाहरण पुरानी TV है|

Liquid Crystal Display (LCD)

इसमें 2 सतहों के बीच एक प्रकार का liquid crystal भरा जाता है| उस तरल क्रिस्टल से होकर जब high voltage प्रभावित किया जाता है तो डिस्प्ले प्राप्त होता है|इसका सबसे अच्छा उदाहरण लैपटॉप की स्क्रीन या LED है|

Printer

प्रिंटर का इस्तेमाल खास तौर पर तब किया जाता है जब हमे कंप्यूटर से प्राप्त परिणाम को हार्डकॉपी में प्राप्त करना हो यानि किसी कागज या किसी मेटेरिअल में परिणाम को प्राप्त करने के लिए प्रिंटर का इस्तेमाल करते है|

प्रिंटर कई प्रकार के होते है-

  • Character Printer (कैरेक्टर प्रिंटर)
  • Line Printer (लाइन प्रिंटर)
  • Page Printer (पेज प्रिंटर)
  • Impact Printer (इम्पैक्ट प्रिंटर)
  • Dot Matrix Printer (डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर)
  • Daisy Wheel Printer (डेज़ी व्हील प्रिंटर)
  • Thermal Printer (थर्मल प्रिंटर)
  • Non-Impact Printer (नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर)
  • Ink Jet Printer (इंक जेट प्रिंटर)
  • Laser Printer (लेज़र प्रिंटर)

कैरेक्टर प्रिंटर में एक बार में एक ही कैरेक्टर प्रिंट हो पता था|

लाइन प्रिंटर में एक बार में एक ही लाइन प्रिंट हो पता था|

पेज प्रिंटर आने एक बाद एक बार में एक पूरा पेज का प्रिंट होना संभव हो पाया|

इम्पैक्ट प्रिंटर एक प्रकार का टेपराइटर की तरह होता है जिसमे पेपर और इंक रिबन के बीच दबाव के कारण प्रिंट होता है|

डॉट इम्पैक्ट प्रिंटर एक प्रकार का इम्पैक्ट प्रिंटर ही है जिसका गति इम्पैक्ट प्रिंटर से कम होता है, यह एक बार में एक ही कैरेक्टरप्रिंट कर सकता है|

डेज़ी व्हील प्रिंटर यह भी एक प्रकार का धीमी गति वाला इम्पैक्ट प्रिंटर ही है| यह भी एक बार में एक ही कैरेक्टर प्रिंट कर सकता है| इसे डेज़ी व्हील प्रिंटर इसीलिए कहा जाता है क्युकी इसके ऊपर हेड के स्थान पर एक डेज़ी व्हील लगा होता है जो गोल-गोल घूमकर कैरेक्टर को प्रिंट करता है|

थर्मल प्रिंटर एक प्रकार का नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर होता है, जिसमे एक विशेष प्रकार का रसायन युक्त पेपर का इस्तेमाल करके प्रिंट किया जाता है|

नॉन-इम्पेक्ट प्रिंटर में किसी भी प्रकार का रिबन नहीं लगता है यह आटोमेटिक तकनीक की मदद से स्याही का छिडकाव कर प्रिंट करता है|

इंक जेट प्रिंटर में एक नोजल होता है जिसमे पेपर को रखकर स्याही का छिडकाव कर प्रिंट किया हटा है| यह एक प्रकार का नॉन-इम्पेक्ट प्रिंटर ही होता है|

लेजर प्रिंटर एक प्रकार का नॉन-इम्पैक्ट पेज प्रिंटर ही है जिसका इस्तेमाल 1970 के दशक से ही होता आ रहा है| इसकी प्रिंट करने की गति बहुत तेज होती है| इसे लेजर बीम, प्रकाशीय ड्रम तथा आवेशित स्याही टोनर का उपयोग कर बनाया गया है| इससे कम खर्च में ज्यादा प्रिंट किया जाता है|

Speaker

what is output device in hindi

यह एक प्रकार का ध्वनि उत्पन्न करने वाला आउटपुट डिवाइस है जो आउटपुट की सॉफ्ट कॉपी को ध्वनि के रूप में प्रस्तुत करता है|

स्पीकर कई प्रकार के होते हैं-

  • Subwoofer
  • Studio Monitor
  • Loudspeakers
  • Floor Standing Speaker
  • Bookshelf Speaker
  • Central Channel Speaker
  • In Wall or In Ceiling Speaker
  • On wall speaker
  • Bluetooth Speaker

Sub woofer Speaker की फ्रीक्वेंसी कम होती है| इसका इस्तेमाल अधिकतर कार और घरों में किया जाता है| आजकल की कुछ कंप्यूटरों में भी सबवूफर स्पीकर का इस्तेमाल किया जा रहा है|

Studio Monitor को संगीतकारों के लिए  बनाया गया है यह स्वर और संगीत को साफ-साफ पेश करता है| इसका इस्तेमाल अधिक म्यूजिकल स्टूडियो में किया जाता है|

लाउडस्पीकर से आप भली भांति परिचित होंगे लाउडस्पीकर का इस्तेमाल पार्टी और शादियों में  मनोरंजन के लिए किया जाता है इस स्पीकर की आवाज़ बहुत तेज होती है इसीलिए इसे लाउडस्पीकर बोलते हैं|

Floor Standing Speaker जैसे ही पता चलता है की फ्लोर यानी फर्श और Standing यानि खड़ा होना अर्थात फर्श में खड़ा रहने वाला स्पीकर इसका उपयोग भी घरों में किया जाता है|

Bookshelf Speaker को होम थिएटर स्पीकर के नाम से भी जाना जाता है यह आकार में ना तो बड़ा और ना ही ज्यादा छोटा होता है इसे टीवी या किसी भी डिवाइस के साथ जोड़ा जा सकता है|

 Central Channel Speaker एक अप्रचलित स्पीकर है इसका इस्तेमाल ना के बराबर होता है खास तौर पर टीवी के लिए इसे बनाया गया है|

In Wall or In Ceiling Speaker का इस्तेमाल तब किया जाता है जब आप किसी कमरे या घर के चारों तरफ संगीत का माहौल बनाना चाहते हो इसे लगाने में बहुत खर्चा होता है|

On wall speaker को लगाना In Wall or In Ceiling Speaker की तुलना में आसान होता है इसे आप कई रंगों में खरीद सकते हैं यह किसी भी दीवार में चिपकाए जा सकता है|

ब्लूटूथ स्पीकर के बारे में आप तो जानते ही होंगे|यह स्पीकर आज के जमाने में काफी पॉपुलर है|  इसमें किसी भी प्रकार का तार नहीं होता है, इसके साउंड क्वालिटी अच्छी होती है इसे कहीं भी आसानी से ले जाया जा सकता है|

Projector

प्रोजेक्टर भी एक प्रकार का आउटपुट डिवाइसहै जिसका इस्तेमाल किसी छोटे फोटो या विडियो को किसी कपडे या दिवार में बड़ा करके दिखाने में किया जाता है|

प्रोजेक्टर कई प्रकार के होते है-

  • DLP Projector
  • LCD Projector
  • LED Projector

DLP Projector यानि digital light processing projector, चिप के आधार पर काम अकरने वाला प्रोजेक्टर है| इस चिप को DMD चिप के नाम से जाना जाता है| जो कई लाख शीशे के बने होते है|इसका इमेज आउटपुट काफी अच्छा होता है|

LCD Projector यानि Liquid Crystal Display है|यह DLP Projector से सस्ता और एक अच्छा प्रोजेक्टर है| इसका अधिकतर इस्तेमाल फिल्म प्रोडक्शन में किया जाता है| इसमें ज़ूम लेंस उपलब्ध होता है इसी वजह से यह दूर से ही प्रोजेक्ट कर सकता है|

LED Projector यानि light emitting diode projector एक टिकाऊ प्रोजेक्टर है जो जल्दी ख़राब नही होता है लम्बे समय तक चलता है| यह सबसे ज्या बिकने वाला प्रोजेक्टर भी है|

इसे भी पढ़े-

निष्कर्ष

ऐसे तो बहुत से आउटपुट डिवाइस है सबका विवरण एक पोस्ट में संभव नही है| हम इस पोस्ट “आउटपुट डिवाइस क्या है (What is Output Device in Hindi)” में महत्वपूर्ण आउटपुट डिवाइस का विस्तृत विवरण करने का कोशिश किये है| आशा करता हूँ की आउटपुट डिवाइस से रिलेटेड आपके सवालों का जबाब आपको मिल गया होगा|

हमारे इस पोस्ट का मकसद आउटपुट डिवाइस क्या है (What is Output Device in Hindi) और इससे जुड़े सवालों का विस्तृत जवाब देना ही था|

अगत हमने इस पोस्ट में आउटपुट डिवाइस से जुड़े कोई महत्वपूर्ण तथ्य गलत लगे या इसमें किसी तथ्य का विवरण का उल्लेख नही किया गया हो तो हमे कमेन्ट में जरुर लिखे हम जल्द ही उसे अपडेट करने की कोशिश करेंगे|

आशा करता हूँ की आपको इस पोस्ट से कुछ सिखने को मिला होगा, अगर अपने इस पोस्ट से कुछ सिखा हो तो अपने दोस्तों के साथ share करने न भूले| धन्यवाद|

Leave a Comment