कंप्यूटर की पीढ़ियाँ – Generation Of Computer in Hindi

आज इस पोस्ट में हमलोग कंप्यूटर की पीढ़ियाँ ( Generation Of Computer in Hindi) के बारे में जानेंगे|

कंप्यूटर अपने अविष्कार से लेकर अब तक काफी विकास किया है| पहले के कंप्यूटर जहाँ वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) का प्रयोग किया जाता है वहीँ आज के कंप्यूटर में Artificial Intelligence का प्रयोग किया जाता है|

कंप्यूटर के इसी परिवर्तन को Generation Of Computer यानि कंप्यूटर की पीड़ी कहते है|कंप्यूटर के hardware और software के बदलाव के अधर पर ही कंप्यूटर की पीढ़ियाँ का निर्धारण हुआ है|

फ़िलहाल हमलोग पांचवी पीड़ी के कंप्यूटर का उपयोग कर रहे है| और अब हमलोग कंप्यूटर की 5 पीड़ियाँ – 5 Generation Of Computer in Hindi के बारें में विस्तार से जानेंगे|

कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी – First Generation of Computer in Hindi

First Generation of Computer in Hindi

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर को वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) का उपयोग कर बनाया जाता था|वैक्यूम ट्यूब का आकर बड़ा होने के कारण इस समय के कंप्यूटर काफी बड़े होते थे|

J.P. Eckert और  J.W. Mauchy ने 1946 में वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) का इस्तेमाल कर सबसे पहला कंप्यूटर बनाया था, तभी से प्रथम पीढ़ी की शुरुआत मन जाता है|

इस समय के कंप्यूटर काफी slow काम करते थे और इसकी कीमत भी काफी ज्यादा होती थी जिसके कंप्यूटर afford करना किसी सामान्य नागरिक के वश की बात नहीं थी|

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर का अधिकतर इस्तेमाल वैज्ञानिक स्तर पर ही किया जाता था|

इस पीढ़ी के कंप्यूटर में इनपुट तथा आउटपुट device के रूप में ज्यादातर Punch Cards, Paper Tap और Magnetic Tap का use किया जाता था|

Note: वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) का अविष्कार John Ambrose Fleming 1904 ईस्वी में किया था|

प्रथम पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर-

  • ENIAC – Electronic Numeric Integrated and Calculator
  • EDVAC – Electronic Discrete Variable Automatic Computer
  • UNIVAC – Universal Automatic Computer
  • IBM-701- International Business Machine – 701
  • IBM-650 – International Business Machine – 650

Features of First Generation of Computer in Hindi-

  • वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) प्रयोग
  • आकार में बहुत बड़ा
  • काफी वजनदार होने के कारण एक जगह से दुसरे जगह ले जाने में परेशानी|
  • कम use में ही गर्म हो जाने के कारण इसका use करने के लिए AC की जरुरत पड़ती थी|
  • यह मशीनी भाषा (0/1) के आधार पर काम करता था|
  • storage के लिए Magnetic Drum का उपयोग किया जाता था|

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी – Second Generation of Computer in Hindi

Generation of Computer in Hindi

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी में वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) को हटाकर उसके स्थान पर Transistor का उपयोग किया जाने लगा, उस समय के ट्रांजिस्टर भी आकार में काफी बड़ा होता था जिसके कारण दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर का भी आकार काफी बड़ा और वजन भी काफी ज्यादा होती थी|

इस पीढ़ी के कंप्यूटरों की शुरुआत 1956 से मानी गयी है| ट्रांजिस्टर के उपयोग के कारण second जनरेशन के कंप्यूटर की speed, First जनरेशन की तुलना में थोरी ज्यादा हुई| और इसमें primary और secondary मेमोरी का उपयोग होने लगा जिसके कारण इस पीढ़ी के कंप्यूटर Assembly एवं High-Level Programming Language को support करने लगा, परिणाम स्वरुप कंप्यूटर की दूसरी पीड़ी में multi-programming operating system का इस्तेमाल होने लगा|

Note: ट्रांजिस्टर का अविष्कार William Shockely ने 1947 ईस्वी में किया था|

दूसरी पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर-

  • Honeywell 400
  • IBM 7094
  • CDC 1604
  • CDC 3000 Series
  • UNIVAC 1108
  • IBM 1400 Series
  • MARK III

Features of Second Generation of Computer in Hindi-

  • ट्रांजिस्टर का प्रयोग
  • Tap और Megnatic core का उपयोग स्टोरेज के लिए किया जाने लगा|
  • आकार अभी भी काफी बड़ा
  • वजन अभी भी काफी जायदा
  • speed में थोड़ा वृद्धि हुई|
  • FORTON, COBOLभाषा का प्रयोग किया जाने लगा|
  • अभी भी AC की जरुरत|
  • उर्जा की खपत में कमी आई|
  • कीमत अभी भी बहुत ज्यादा होने के कारण सिर्फ विशेष कार्य में प्रयोग किया जाता था|

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी – Third Generation of Computer in Hindi

Generation of Computer in Hindi

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में IC – Integrated Circuit का प्रयोग किया जाने लगा|

Jack Kibly और Robert Noyce ने सर्वप्रथम बहुत सारे transistor, capacitor और Resister का इस्तेमाल करके IC – Integrated Circuit का निर्माण किया था|

IC का उपयोग होने के कारण तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर का आकार बहुत छोटा हो गया और इसकी वजन भी पहले के काफी ज्यादा कम हो गयी साथ साथ इसकी storage छमता भी काफी बढ़ गयी|

इस generation के कंप्यूटर में उर्जा की खपत बहुत कम होने लगी और कैलकुलेशन भी पहले के मुकाबले बहुत फ़ास्ट होने लगी|

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर से ही mouse और keyboard का उपयोग होने लगा और कंप्यूटर को एक विश्वसनीय device के तौर पर मानने लगा| कीमत पहले के मुकाबले काफी कम होने के कारण इसका इस्तेमाल भी बहुत ज्यादा बिज़नस, industry आदि area में होने लगा|

Note:  Robert Noyce और Jack Kilby ने I.C का आविष्कार किया था

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के कुछ नाम-

  • PDP-8
  • PDP-11
  • ICL 2900
  • IBM 360 Series
  • Honeywell 6000 Series
  • TDC-B16

Features of Third Generation of Computer in Hindi-

  • IC का प्रयोग कर बनाया गया|
  • Mouse और Keyboard का उसे किया जाने लगा|
  • Multi-Programming Operating System को support करने लगा|
  • High-Level Programming Language का इस्तेमाल होने लगा|
  • पहले से काफी ज्यादा भरोसेमंद device बन गया|
  • आम लोग भी general purpose के लिए कंप्यूटर खरीदने लगा|
  • AC की जरुरत खत्म|
  • BASIC, COBOL, FORTON, PASCAL, ALGOL का उपयोग|
  • उर्जा की खपत में काफी कमी आई|

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी – Forth Generation of Computer in Hindi

Generation of Computer in Hindi

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी में IC (Integrated Circuit) को काफी बिकसित कर दिया गया जिसे Large Integrated Circuit कहा जाने लगा|अब एक Integrated Circuit 300000 transistors के बराबर कार्य करने लगा, इसी अविष्कार के परिणाम स्वरुप पूरी की पूरी CPU (Central Processing Unit) एक छोटी चिप में समा गयी जिसे Micro Processor (माइक्रो प्रोसेसर) कहा जाता है|

अमेरिका के Ted Hoff ने ही सर्वप्रथम Micro Processor (माइक्रो प्रोसेसर) का निर्माण किया था| उन्होंने Intel Corporation के साथ काम करते हुए पहला माइक्रो प्रोसेसर Intel 4004 को सफलता पूर्वक develop किया था|

इस Generation के कंप्यूटर का आकार बहुत ही छोटा और processing speed काफी तेज हो गयी और storage कैपिसिटी में भी काफी ज्यादा वृद्धि हुई|

इसे generation के कंप्यूटर के छेत्र में Revolution आई| कंप्यूटर का आकार छोटा कर दिया गया और मेमोरी को बढ़ा दिया गया| और साथ-ही-साथ कंप्यूटर की कीमत को भी बहुत कम कर दिया गया जिससे कोई भी आम नागरिक कंप्यूटर खरीदने लगा|

इसी पीढ़ी में GUI (Graphical User Interface) का हुआ और माइक्रोसॉफ्ट और MacOs जैसे ऑपरेटिंग system का जन्म हुआ| इस पीडी के कंप्यूटर आज भी बड़े पैमाने में इस्तेमाल किया जाता है|

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर के कुछ नाम-

  • PUP 11
  • Macintosh
  • PCs
  • IBM 4341
  • DEC 10
  • STAR 1000

Features of Forth Generation of Computer in Hindi-

  • Micro Processor का प्रयोग कर बनाया गया|
  • GUI based ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग|
  • आकार को बहुत छोटा कर दिया गया|
  • वजन को भी बहुत कम कर दिया गया|
  • AC के जगह छोटे Fan का उपयोग किया जाने लगा|
  • Internet का इस्तेमाल होने लगा|
  • C, C++ आदि भाषाओ का उत्पन्न हुआ|
  • आम नागरिक भी खरीदने में सक्षम हुए|

कंप्यूटर की पांचवी पीढ़ी – Fifth Generation of Computer in Hindi

Generation of Computer in Hindi

1985 ईस्वी से कंप्यूटर के पांचवी पीढ़ी की शुरुआत हुई है और 1985 के बाद से अब तक के सारे कंप्यूटर पांचवी पीढ़ी के अंतर्गत आते है| ये कंप्यूटर बाकि पीढ़ियों से काफी ज्यादा powerful है|

पांचवी पीढ़ी के कम्पूटर में ULSI based micro processor का इस्तेमाल किया जा रहा है जो काफी ज्यादा तेज होने के साथ-साथ बहुत छोटा भी है इसलिए इस पीढ़ी के कंप्यूटर की size छोटी होती है|

इस पीढ़ी के कंप्यूटरों Artificial Intelligence का प्रयोग करने की कोशिश की जा रही है जिससे भविष्य में कंप्यूटर भी मनुष्य की तरह सोच पाएंगे|

पांचवी पीढ़ी यानि अभी के कंप्यूटर को चलाना काफी आसान हो गया है कोई भी थोरी सी प्रैक्टिस के बाद कंप्यूटर चला सकता जो पहले की पीढ़ियों में नहीं होता था|

आज के कंप्यूटर में हमलोग बिना किसी Wire के Wi-Fi से connect करने इन्टरनेट चला सकते है, साथ ही इसमें high level language का इस्तेमाल भी किया जा रहा है जैसे- Python, Java, javascript आदि

आज के समय में विभिन्न Modal के कंप्यूटर जैसे- Desktop, Laptop, Tablet इत्यादि का इस्तेमाल किया जा रहा है शयद भविष्य में हमलोग इससे भी अच्छे device उसे कर पाएंगे|

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर के कुछ नाम-

  • Desktop PCs
  • Macbooks
  • Laptops
  • Chromebooks
  • Notebooks
  • Ultrabooks

Features of Fifth Generation of Computer in Hindi-

  • ULSI based micro processor का उपयोग
  • Fast ऑपरेटिंग system
  • graphics में बिकास
  • हल्के और छोटे (कहीं भी ले जाने में आसान)
  • खुबसूरत डिजाईन
  • बहुत कम उर्जा की जरुरत
  • Multimedia, Touchscreen, Web, Voice Control में विकास
  • Artificial Intelligence का विकास

निष्कर्ष

इस पोस्ट के माध्यम से हमलोगों ने कंप्यूटर की पीढ़ियों (Generation Of Computer in Hindi) को सरल भाषा में जानने की कोशिश किया|आशा करता हूँ की आपको अच्छे से समझ आया होगा|

अगर इस पोस्ट में कोई भी जानकारी गलत लिखा हुआ है या मुझसे कोई जानकारी miss कर दिया है तो please हमें कमेंट में जरुर लिखे हम इस पोस्ट को अपडेट करते रहेंगे|

अगर आपको यह पोस्ट कंप्यूटर की पीढियां (Generation Of Computer in Hindi) पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ share करके हमे सपोर्ट कर सकते है|धन्यवाद|

2 thoughts on “कंप्यूटर की पीढ़ियाँ – Generation Of Computer in Hindi”

Leave a Comment